माय फक डायरी – 1

दोस्तों मैं रोहित, मैं अपने कॉलेज का टॉपर हूँ. मेरी एक बहुत अच्छी फ्रेंड है महक. मैं और महक कॉलेज में पूरा टाइम साथ बिताते थे.
एग्जाम के टाइम, महक ने बोला की उसको एक पेपर में मेरी मदद चाहिए. मैंने बोला ठीक है. मैं रात को उसके फ्लैट चला गया. उस दिन वो फ्लैट में अकेली थी. महक ने आज वाइट कलर की टीशर्ट और छोटी सी निकर डाली थी. महक की उम्र २५ साल है, रंग गोरा, हाइट ५’५” और थोड़ी चब्बी टाइप है. उसके बदन का मेज़रमेंट ३८-३२-४० है. उसके चुच्चे बहुत ही बड़े बड़े है आज टाइट टीशर्ट में चूचियां और भी बड़ी लग रही थी. शायद ब्रा नहीं पहनी थी उसने. और उसकी गांड बहुत ही भारी और बाहर निकली हुई है. टाइट शॉट्स में उसकी बड़ी सी गांड बहुत मस्त लग रही थी. आज उसकी चूचियों और गांड ने मेरा लंड खड़ा कर दिया.
मैं किसी तरह पढाई करने लगा. हमदोनो बिस्तर पर लेते हुए पढ़ रहे थे. वो मेरे सामने लेट कर पढ़ रही थी. जिससे मुझे उसका क्लीवेज पूरा दिख रहा था. उसकी गोरी गोरी नंगी चूचियां मुझे बेचैन कर रही थी. मैं उसको पढ़ा रहा था और उसके गदराये बदन को ताड़ रहा था. २ घंटे में हमने पढाई कम्पलीट कर ली, उस समय रात के १० बजे थे..

महक: थैंकस यार तेरी वजह मेरी पढाई भी जल्दी ख़तम हो गयी..
मैं: चलो अच्छा है… अब क्या करे…
महक: चल कोई मूवी देखते है
मैं: ठीक है
महक ने अपने लैपटॉप में एक मूवी लगा दी और मेरे कम्बल में आकर मेरे आगे सो गयी. मैंने भी मौका का फयदा उठा कर उसे पीछे से पकड़ कर मूवी देखने लगा. फिर मूवी में एक हॉट सीन आया. उसको देखकर कर मेरा लंड फिर अकड़ने लगा और लंड महक की गांड में दस्तक देखने लगा.. महक को ये पता चल गया और उसने अपना हाथ पीछे करके मेरा लंड पकड़ लिया..
महक: कोई तो लगता है अभी जगा है
मैं: जागा तो ये बहुत पहले से है.. तुमने अभी ध्यान दिया है…
मैंने महक की मुंह को अपनी ओर खींचा और किश करने लगा… मेरा हाथ अब महक की चूचियों पर था… उसकी चूचियां बहुत ही बड़ी बड़ी और दूध से भरी हुई थी. महक की मुंह से अह्हह्ह्ह्ह उउउउउ की आवाजे आने लगी….
महक: मैं कब से वेट कर रही थी की कब तू कुछ करेगा
मैं: साली मुझे पता था बहुत बड़ी रंडी है तू…..
महक: तो सोच क्या है चोद इस रंडी फिर
मैं: महक बहुत बड़े बड़े आम है तेरे… बहुत ही मजा आ रहा है इसे दबा कर…
महक: अह्ह्ह्हह रोहित जोर से मसल और चूस मेरी चूचियों को..
मैंने महक की टीशर्ट उतर दी… उसके दोनों तरबूज हवा में लहराने लगे. उसकी एक एक चूची ५ किलो से ज्यादा भारी थी. मैं चूचियों को बारी बारी से दबा और चूस रहा था. फिर मैं उसकी नंगी मोटी टांगो को सहलाने और किश करने लगा. फिर मैंने उसकी निकर और चड्डी उतर दी. फिर मैंने उसकी चुत में एक उंगली डाल दी और अंदर बाहर करने लगा… अह्हह्ह्ह्ह रोहित बस कर… मेरी चुत पूरी गीली हो गयी आ अपना लौड़ा घुसा दे जल्दी… उउउउउउ ओह्ह्ह्हह्हह
मैंने लंड धीरे से महक की बूर में पेल दिया. महक की चुत बहुत टाइट थी, उसे काफी दर्द होने लगा…. उईईईईई … ओह्ह्ह्हह्ह्ह्ह…. मैंने अपना लौड़ा बाहर खींचा और जोर से धक्का मारा… लंड महक की बूर को फाड़ता हुआ अंदर चला गया… महक की शक्ल रोने जैसी हो गयी थी. उईईईईई रोहित… मार डाला रे तूने… जब महक थोड़ी ठीक हुई तब मैंने लंड उसकी बूर में अंदर बाहर करने लगा. मैं धीरे धीरे अपनी रफ़्तार बढ़ा रहा था…
महक: ओह्ह्ह्हह्ह रोहित… अह्हह्ह्ह्ह
मैं: महक तेरी गांड और चूचियों ने बहुत परेशां किया है मेरे लंड को… आज पूरा बदला लूँगा
महक: ओह्ह्ह्ह रोहित मेरे यार.. अच्छे से चोद मुझे… मैंने भी तुझसे चुदने के लिए तड़प रही थी… अह्हह्ह्ह्ह फ़क मी यार
मेरे लंड बहुत तेजी से महक की बूर को चोद रहा था.. महक भी बहुत मजा लेकर चुद रही थी. फिर मैंने महक को अपनी आगोश में लेकर चोदने लगा. महक भी उछल उछल कर चुदवा रही थी. मैं महक के बड़े बड़े चुचो को दबा दबा कर चोद रहा था.. मैंने अपनी चुदाई की स्पीड बढ़ा दी….
महक: अह्ह्ह्हह रोहित ……और चोद यार…
मैं: ओह्ह्ह्ह महक … आज तुझे चोद कर बहुत मजा आ रहा है रंडी…. खा मेरा पूरा लंड….
हर शॉट के साथ मैं अपना पूरा लंड जड़ तक महक की बूर में पेल देता था… उसकी विशाल चूचियां हवा में बाउंस हो रही थी. मैं चूचियों को चूस चूस कर महक की चुदाई कर रहा था…. अह्हह्ह्ह्ह रोहित और पेलो यार …. अच्छे से मारो मेरी चुत … अह्ह्ह्हह ओह्ह्ह्हह
बहुत चोदने के बाद महक झरने लगी… ओह्ह्ह्ह रोहित और तेज यार… फ़क मी हर्डर बेबी…. चोद अपनी रंडी को ….आह्हः और जोर से चोद यार…. उईईईईई अह्ह्ह्हह रोहित मैं तो गयी…मैंने थोड़ी देर और चोदा महक को और अपना मूठ उसकी बूर में ही गिरा दिया….

Comments