दीदी के पर्स से कंडोम मिला

हेलो दोस्तों मेरा नाम रोहित है. मेरी उम्र २५ साल है. मुझसे बड़ी मेरी एक दीदी है, जिसका नाम संचिता है. संचिता दीदी की उम्र २८ साल है. दीदी का रंग गोरा है और जिस्म पूरा भरा हुआ है. दीदी का फिगर ३८-३०-३८ है. फुटबॉल के जैसी बाहर निकली हुई बड़ी बड़ी चूचियां, पतली कमर और चौड़ी भारी गांड दीदी को और सेक्सी बनाती है.
दीदी और मैं काफी अच्छे दोस्त है.एक दिन मुझे पैसे चाहिए थे तो मैंने दीदी से मांगे. दीदी ने बोला पर्स से निकल ले. मैं पर्स से जब पैसे निकल रहा था तब मुझे कंडोम का पैकेट मिला. मेरा तो दिमाग ही हिल गया. पर्स में दीदी का मोबाइल भी रखा हुआ था. मैंने चेक किया तो उसमे दीदी की काफी सेक्सी सेक्सी फोटो थी. कुछ फोटो में दीदी किसी लड़के के साथ सोइ हुई दिख रही थी. मेरा लंड खड़ा हो गया. मैं समझ गया की दीदी अपने बॉयफ्रेंड से चुदवाती है. मैंने दीदी को कंडोम दिखाया और पूछा, दीदी के तो होश ही उड़ गए.

मैं: ये सब क्या है दीदी
दीदी: रोहित…. वो वोओओओ ….
मैं: क्या वो वो कर रही है… बोल ना चुदवाती हूँ बाहर
दीदी: वो रोहित किसी को नहीं बताना प्लीज… कभी कभी मैं अपने बॉयफ्रेंड के साथ मजे लेती हूँ.
मैं: तो दीदी बहुत मजा आता होगा
दीदी: हाँ भाई.. बहुत मजा आता है.. पर तू ये किसी को नहीं बताना
मैं: एक शर्त पर दीदी.. मुझे भी एक कंडोम यूज़ करना है
दीदी: ठीक है निकाल ले .. पर करेगा किसके साथ .. कोई गर्लफ्रेंड है तेरी
मैं: गर्लफ्रेंड तो नहीं है.. पर आप हो ना
दीदी: मतलब?
मैं: दीदी मैं तो कंडोम आपके साथ यूज़ करना चाहता हूँ.. अपना लंड आपकी बूर में डालना चाहता हूँ और आपको खूब चोदना चाहता हूँ.

मैंने दीदी को कस कर पकड़ लिया और उनकी भारी चुत्तड़ो को मसलने लगा.. दीदी ने आज एक टीशर्ट और टाइट लेग्गिंग्स पहना हुआ था. दीदी की चौड़ी गांड लेग्गिंग्स में और भी सेक्सी लग रही थी. और छातियों पर चूचियों का पहाड़ बना हुआ था.. मैं दीदी की चौड़ी गांड को काफी जोर जोर से दबा रहा था..

दीदी: रोहित क्या बक रहा है.. छोड़ मुझे… मैं तेरी दीदी हूँ तुझे शर्म नहीं आती ये सब करते हुए
मैं: अभी तो आप मुझे एक चोदनीय माल लग रही हो
दीदी: भाई छोड़ दे मुझे…ये ठीक नहीं है..
मैं: दीदी अपने बॉयफ्रेंड से तो चुदती ही हो, मेरा भी लंड डलवा लो अपनी चुत में..
दीदी: नहीं भाई ये नहीं हो सकता

मैं दीदी की तरबूज जैसी चूचियों को टीशर्ट के ऊपर से दबाने लगा…बहुत ही बड़ी बड़ी सॉफ्ट चूचियां थी..मसलने में बहुत मजा आ रहा था… फिर मैंने दीदी की टीशर्ट उतर दी. अब उनके तरबूज मेरे सामने नंगे थे.. जिसे मैं दबा दबा कर चूस रहा था.. मस्त बड़े बड़े बॉल्स थे साली के …

दीदी: अह्हह्ह्ह्ह भाई मत कर…
मैं: दीदी आपकी गदरायी जवानी को आज मैं भोगे बिना नहीं छोड़ सकता..

मैंने दीदी की लोअर निकाल दी और उनकी बूर में एक उंगली डाल दी…

दीदी: आह्ह्ह्हह …ओह्ह्ह्ह भाई
मैं: मजा आ रहा है ना दीदी…
दीदी अब कुछ नहीं बोल रही थी और मैं उनके पुरे जिस्म का मजा ले रहा था.. मैंने उनकी चड्डी निकाल दी.. अब दीदी की गोरी चिकनी बूर मेरे सामने थी.. मैं बूर को चूसने लगा.. अब दीदी का भी कण्ट्रोल हो गया..

दीदी: अह्हह्ह्ह्ह उईईई भाई… अब कण्ट्रोल नहीं हो रहा है.. आ तुझे बहनचोद बनाती हूँ… पेल दे अपना लंड मेरी चुत में…और चोद ले अपनी दीदी का बदन
मैं: दीदी आप अपने हाथो से कंडोम पहनाइए लंड को

दीदी ने मेरे लंड को मस्त चूसा और उसपर कंडोम चढ़ा दिया …बस फिर क्या था मैंने अपना लौड़ा दीदी की बूर में पेल दिया.. दीदी की मुंह से चीखे निकाल आयी.. मेरा लंड काफी बड़ा है इसलिए दीदी को काफी दर्द हो रहा था..

दीदी: अह्ह्ह्ह ओह्ह्ह्हह्हह भाई.. मस्त मोटा लंड है तेरा… मजा आ गया..
मैं: उफ्फ्फ्फ़ दीदी तेरी बूर भी बहुत टाइट है.. मजा आ रहा है आपको चोदने में..
दीदी: उईईईईई उउउउउउउ भाई फिर लगा जोर.. और भोग अपनी दीदी का जिस्म
मैं: ओह्ह्ह्हह मेरी रंडी दीदी.. बहुत चोदूँगा आपको मैं आज…

मैं दीदी की बड़ी बड़ी चूचियों को दबा दबाकर चोद रहा था….हर शॉट में दीदी की आहे निकल रही थी…

दीदी: ओह्ह्ह्ह रोहित डार्लिंग … प्लीज फ़क मी
मैं: ओह्ह्ह्हह दीदी … देख मेरे लंड कैसे तेरे बूर की चुदाई कर रहा है..
दीदी: अह्ह्ह्हह उईईईईई भाई आई ऍम योर स्लट बेबी.. फ़क मी डीपर… हार्डर बेबी..

मैं दना दन दीदी की बूर को चोद रहा था.. उनकी बाउंस होती हुई बड़ी बड़ी चूचियों को दबा और चूस रहा था. थोड़ी देर बाद हमदोनो झड़ गए..

Comments