बुआ की गांड Hindi chudayi stories

हेल्लो दोस्तो कैसे हो आप सब
बात उन दिनो की है जब मैं अपने गाँव गया हुआ था अपनी बुआ के पास जो की मेरे पापा से 8 साल बड़ी थी और उनकी उम्र 45 साल थी और उनके 2 लड़कियाँ भी थी जो एक 17 साल की और दूसरी 19 साल की थी दोनों शादी लायक थी पर अभी शादी नही हुई थी और दोनों ही बहुत खूबसूरत थी उन दोनों के लाल लाल गाल उठे हुये बोबे और फूली हुई गांड देख कर क़िसी के लंड मे भी पानी आ सकता था फिर मैं तो पक्का मादरचोद था। अभी तक मैने सिर्फ़ 2 ही चूतो का मज़ा लिया है वो भी मम्मी और चाची की तब से मेरे मन में बड़ी उम्र वाली को ही देख कर ख़ुशी मिलती है जब भी किसी 35 से ऊपर की औरतों को देखता हूँ बस यही जी करता है की यहीं पलट कर अपना लंड इसकी चूत में डाल दूँ.
मुझे लड़कियों को देखना भी अच्छा नहीं लगता था और जैसे की मेरी आदत थी तो मैं बुआ से ज़्यादा हँसता बोलता था जबकि बुआ की लड़कियों से बहुत ही कम बोलता था पर एक बात मैने नोट की थी बुआ की दोनों लड़कियाँ अक्सर कॉलेज से देर से आती थी और मुझे ये जानते देर ना लगी की वो दोनों  बाहर के लड़को से पटी हुई है और दोनों ही मुझमे इंटरेसटेड थी दोनों ही मुझे बहुत गौर से देखती थी मैं वहाँ आँगन मे ही नहाता था और जब भी मेरी नज़र रीना या मीना से टकराती तो उन्हे अपने सामने ही ताकता हुआ पाता और कभी कभी तो रीना मुझसे रगड़ती हुई निकल जाती और कभी कभी धक्का भी  मार देती थी मैं कोई ना समझ नही था जो समझ ना पाता पर फिर भी मैने कोई इंटरेस्ट नही दिखाया और मेरा पूरा ध्यान बुआ की तरफ ही था
मेरे मन में हमेशा उनकी नंगी जांघे और बड़ी बड़ी चूचियों मे ही उलझा रहता और एक दिन तो ग़ज़ब ही हो गया हुआ ये की दोनों लड़कियाँ कॉलेज गयी हुई थी घर मे मैं और बुआ ही थे और उनके पति शहर गये हुए थे 15 दिनो के लिये तब मैं बैठा हुआ मूवी देख रहा था और बुआ नहा रही थी तब ही वो नहा कर बाहर निकली और वो सिर्फ़ टावल में ही थी उनकी टावल में से घुटनो के ऊपर गोरी गोरी चिकनी जाँघ साफ नज़र आ रही थी और टावल ऊपर से चूचियों के थोड़ा सा ही ऊपर था हालाकिं बुआ बस मेरे रूम से निकल कर अपने रूम में ही गयी थी और इस ज़रा सी देर में ही मेरे अंदर का शैतान जाग गया और मैं पूरी तरह जोश मे आ गया मैने सोचा आज चोद ही डालू साली को जो होगा देख लेंगे और मैं उनके रूम की तरफ बड़ा ही था की दरवाजा खुला पाया और धीरे से अंदर देखा तो बुआ अपनी टावल  ऊतार कर पूरी तरह से नंगी थी और अपना एक पैर पलंग पर रख कर पोछ रही थी. इस तरह से उनका पूरा नंगा शरीर मेरी आँखों के सामने था. मैने उस वक़्त उन्हे चोदने का ख्याल दिल से निकाल दिया और अंदर का नज़ारा देखने लगा पैर पोछने के बाद बुआ अपनी चूचि को टावल से रगड़ने लगी उनकी चूचि एकदम लाल हो रही थी
मैं अपना हाथ लंड पर रख कर सहलाने लगा और ऊपर नीचे करने लगा जब बुआ ने चूची रगड़ कर सूखा दी और अलमारी की तरफ बड़ी और तब मैने पहली बार उनकी गांड देखी वाह क्या गांड थी ऐसी तो मेरी मम्मी और चाची की भी नही थी. इनकी गांड मारने में तो बहुत मज़ा आयेगा और मैं ये सोच कर ही खल्लास हो गया और फिर बुआ ने ब्रा निकाल कर पहनी फिर उसी की मेंचिंग की पेंटी भी पहन कर पूरे कपड़े पहन कर मेरे रूम मे आ गयी उनके बाल अभी भी गीले थे और इस रूप में वो बहुत सुंदर लग रही थी. मैं एकटक उन्ही को देख रहा था तब वो बोली की लल्ला ऐसे क्या देख रहे हो मैने कहाँ  बुआ आज आप बहुत सुंदर लग रही हो मेरे मुहँ से ऐसी बात सुनकर पहले तो वो एकटक मेरा चेहरा देखती रह गयी और फिर शरमाकर बोली हट अब भला मैं सुंदर कहाँ अब तो मैं बूढी हो गयी हूँ लड़कियाँ शादी लायक हो चुकी है उनको क्या पता की मुझे बड़ी उम्र की औरतें ही पसंद थी खैर उस दिन बात वहीं ख़त्म हो गयी और दूसरे दिन रात को आख़िर मैने एक फूलप्रूफ प्लान बना ही लिया बुआ को चोदने  का जब दूसरे दिन दोनों लड़कियाँ कॉलेज गयी तब मैं बुआ से ये कह कर बाहर गया की अभी आता हूँ
एक काम निबटा कर मुझे पता था की ठीक 10 बजे वो टॉयलेट जाती है पर मैं बाहर जा कर चुपके से अंदर घुस आया और टॉयलेट मे बैठ गया और दरवाजा भी नही बंद किया मुझे पता था की अभी बुआ बस आती ही होगी और मैने अपने लंड को पूरी तरह से खड़ा कर रखा था और उसका रुख़ भी इस तरह कर रखा था की दरवाजा खोलते ही उनको मेरे लंड का दीदार पूरा पूरा हो और तभी बुआ के आने की आहट हुई और मैं संभल कर बैठ गया तब ही बुआ आई और मुझे नंगा देख कर सकपका गयी और उनकी नज़रे पूरी तरह से मेरे तने हुए लंड पे टिक गयी थी जोकि पूरा 9″ इंच का किसी साँप की तरह फंनफना रहा था तब ही वो तुरन्त वहाँ से हट गयी और मैं लूँगी बाँधता हुआ बाहर आया तब बुआ ने कहाँ बेटा तू तो बाहर गया हुआ था फिर अचानक? तब मैने कहाँ की बुआ बहुत ज़ोर की पेसाब लगी हुई थी। तब वो बोली की बेटा दरवाज़ा तो बंद कर लेना चाहिये मैने कहाँ की इतनी ज़ोर से पेसाब लगी थी की हडबडाहट मे बंद करना भूल गया तब बुआ ने कहाँ कोई बात नही वो तो अच्छा हुआ बेटियाँ कॉलेज   गयी है और किसी ने तुमको उस हालत मे नही देखा वरना मज़ाक़ उड़ाती और ये कह कर वो फ्रेश होने चली गयी और मैं आगे की रणनीति बनाने लगा जब वो आई तब मैने कहाँ की बुआ मैं नहाने जा रहा हूँ  और फिर बाथरूम मे गया और सारे कपड़े उतार कर नंगा हो गया मगर मुझे नहाना कहाँ था तो मैने बहुत ज़ोर से डोंगा पटका और चिल्लाने लगा तभी बुआ बाहर आई और बोली की बेटा क्या हुआ तू चिल्ला क्यों रहा है तब मैने कहाँ बुआ मेरा पैर फिसल गया है बहुत दर्द हो रहा है तब बुआ ने कहाँ  बेटा दरवाजा खोल मैने कहाँ नही बुआ मैं नंगा हूँ और आप क्रीम दे दो मैं लगा लूँगा तब बुआ ने कहाँ  बेटा तू दरवाजा तो खोल मैं देखती हूँ क्या हुआ और मैने थोड़ा नाटक करने के बाद दरवाजा खोल दिया मैं पूरा नंगा था और वहीं ज़मीन पर पैर फैला कर बैठा हुआ था तब बुआ आई और मेरे पैर को देखने लगी बोली कहाँ चोट आई है मैने जांघों की तरफ इशारा किया तब वो घुटनों के ऊपर हाथ रखती हुई बोली यहाँ पे? मैने कहाँ जी वो बहुत परेशान दिखाई पड़ रही थी मुझे तकलीफ़ मे देख कर और मैं मज़े ले रहा था तब उन्होने कहाँ बेटा तू रूम मे चल कर आ तब देखती हूँ और पहले अपनी कच्ची तो पहन ले मुझे शरम आ रही है
मैने कहाँ दर्द बहुत हो रहा है बुआ पहले तेल या क्रीम लगा दीजिए तब मैने उनकी बात रखने के लिये  अपनी लूँगी लपेट ली और उनका सहारा लेता हुआ रूम की तरफ बडने लगा और उनकी चूचि को अपने सीने से दबाता जा रहा था पर उनकी ज़रा भी परवाह नही थी वो तो बस मेरे लिए परेशान थी थोड़ी देर बाद बेड पर लेटने को बोली और मेरे पैर पर मालिश करने लगी मैने धीरे से अपनी लूँगी एक तरफ सरका दी और मेरा लंड उनके नरम हाथ का स्पर्श पा कर तन चुका था तब ही मैं कराहने लगा तब बुआ ने घबरा कर पूछा क्या हुआ बेटा? मैने कहा वहाँ बहुत दर्द हो रहा है मैने अपने लंड के बिल्कुल करीब इशारा किया और लूँगी को पूरी तरह हटा दिया अब बुआ ने मेरे लंड के पास हाथ रखते हुए मालिश करना शुरू कर दी मैने देखा वो अपनी आँखों से मेरा तना हुआ लंड देख रही थी और मैं मज़े ले रहा था तब ही मैने कहाँ बुआ अब कुछ राहत मिल रही है प्लीज ज़रा ये भी दबा दीजिए और बोली ये तो तेरी बीबी ही दबायेगी लल्ला मैने कहाँ आप दबा देंगी तो क्या हो जायेगा तब वो बोली तू समझता क्यों नही मैं तेरी बुआ हूँ मैं ऐसा नही कर सकती तब मैने उनका हाथ अपने लंड पे रखते हुए कहाँ अब दबा भी दीजिए मुझे तकलीफ़ हो रही है.
मै मज़े लेने के लिये नही कहँ रहा और फिर बुआ अपने हाथ को शरमाते हुए लंड पे भी फिराने लगी अब उनका चेहरा भी लाल हो रहा था और उनकी आँखों मे भी लाल डोरे तैर रहे थे मैं समझ रहा था की अब पटरी पे आ रही है बुआ मैने भी अब अपना हाथ उनकी चूचि पे रख दिया वो एकदम से पीछे हट गयी और आँखे दिखाते हुये बोली लल्ला ये क्या बतमीज़ी है तब मैने कहाँ बुआ सॉरी मैं बहक गया था प्लीज  आप मालिश कीजिये और वो फिर से मालिश करने लगी अब मेरा लंड पूरा ताव मे आ चुका था और मैं समझ रहा था की अब ये भी मना नही करेगी चुदवाने मे मैने धीरे से बुआ के होठ चूम लिये तब बुआ थोड़ा सा शरमाई और फिर मुझे धकेलने लगी मगर मैने उन्हे पकड़ कर अपनी गोद में बैठा लिया और उनकी बड़ी बड़ी चूचि को दबाने लगा वो आआआआआः आआआआआआआआआः करने लगी तब मैने उनकी ब्लाउज खोल दी और ब्रा भी उतार कर फेक दी उनकी चूचि के निपल को होठ के बीच मे रख कर दबाने लगा और उनके पेटीकोट के अंदर ले जाकर उनकी जानदार चूत पे फिराने लगा अब वो भी गरमा गयी थी उनको भी मज़ा आने लगा था मैने उनका पेटीकोट भी उतार दिया और अब वो पूरी तरह से नंगी हो गयी और अपने हाथ से अपनी चूचि और जांघों से अपनी चूत को छिपाने का असफल प्रयास कर रही थी पर नाकाम हो रही थी मैने अपने गरम होठों को उनकी चूत पे रख कर एक जोरदार चुंबन लिया तब वो सिसक कर पड़ी
वो मेरे लंड पे मालिश कर रही थी तब ही मैने उनकी चूचि ब्लाउज के ऊपर से दबाई तो वो उछल पड़ी और दूर हट गयी और कहने लगी लल्ला क्या बात है आज बहुत बतमीज़ी कर रहे हो तब मैने कहाँ बुआ जी ग़लती हो गयी अब नही करूँगा मैं डर गया था पर इरादा तो उनकी चूत मारने का पक्का था वो फिर से लंड सहलाने लगी और मेरे लंड को बहुत चाव से देख भी रही थी जिसे मैं बखूबी समझ रहा था और वो चुदासी भी हो गयी है इसका भी मुझे पता था पर वो शर्माने का नाटक कर रही थी मैने कहाँ  बुआ जी आपकी एक पप्पी ले लू तब उन्होने मना कर दिया पर मैने फिर भी उनके होठ पे अपने होठ  रख दिये और वो मुझे पीछे की तरफ धक्का देने लगी मगर मैं उनके नरम होठों को चूसता ही रहा फिर मैने उनकी ब्लाउज के ऊपर से ही उनके बोबो पे हाथ रखा और सहलाने लगा वो अब भी विरोध कर रही थी पर मैं उनके होठ चूसता हुआ उनकी चूचि को ज़ोर ज़ोर से दबाता जा रहा था तब ही मैने झटके से उनकी ब्लाउज उतार दी अब बुआ अपनी दोनों चूचि को हाथ से छिपाने लगी पर मैने अपना मुहँ उनकी चूचि पे रख दिया और अपनी ज़बान निकाल कर उनकी चूचि को चूसने लगा अब भी वो मुझे पीछे की तरफ धकेल रही थी पर मैने भी अपना काम जारी रखा और अब तो मै अपने हाथ को उनके पेटीकोट के अन्दर ले जाने लगा तब वो बोली की लल्ला अब रहने दे ये अच्छी बात नही है
मैं तेरी बुआ हूँ तब मैने कहाँ साली जब मैने अपनी माँ को नही छोड़ा तो तू क्या है आज तुझे भी अपने लंड से चोदकर तेरी चूत का मज़ा लेना है तब मेरी बात सुनकर बुआ ने कहा क्या बात कर रहा है तू भाभी को चोद चुका है? मैने कहा हाँ अब तो माँ खुद ही अपनी चूत फैला कर मुझसे जब तक चुदवा नही लेती उसको नींद ही नही आती और उसने पड़ोस की चाची को भी मुझसे चुदवाया है मेरी बाते सुनकर बुआ का विरोध कुछ हद तक कम हो चुका था और अब वो नॉर्मल हो रही थी
मैने मौके का फायेदा उठाया और उनका पेटीकोट कमर तक उठा दिया तब वो कहने लगी बेटा ज़रा आराम से कहीं फट ना जाये तब मैने कहा किसकी बात कर रही हो?  चूत की या पेटीकोट की बुआ हँसने लगी और बोली की लगता है तुझे तेरी माँ ने पूरा ट्रेंड कर दिया है तब मैने कहा बुआ अब तो मुझे माँ की और आपकी तरह ही औरतों के साथ ही चूत का खेल खेलने मे मज़ा आता है तब बुआ ने कहा … बेटा असली मज़ा तो हम ही लोगों मे होता है कुँवारी लड़कियाँ भला कहाँ चुदा पाती है और फिर तेरा लंड भी तो इतना बड़ा और मोटा है इससे तो अच्छी अच्छी चुदकड़ भी पानी मांग जायेगी और ये कह कर मेरे लंड पे खुद ही हाथ रगड़ने लगी और अब मैं आराम से उनकी चूचि चूस रहा था और दोनो हाथ से सहला भी रहा था जब मैं उनकी निपल को मुहँ मे दबा कर खीचता तो उनकी सिसकी निकल जाती वो बोल पड़ी आआआहह आहह साले पी जा सारा दूध और अपने हाथ से अपनी बड़ी बड़ी चूचियाँ मेरे मुहँ  मे ठेलने लगी और अपने सीने का ज़ोर मेरे मुहँ पे देने लगी अब तो मेरी चाँदी ही चाँदी थी
मैने उनकी चूचि चूसते हुये उनकी चूत की तरफ हाथ बडाना शुरू किया और थोड़ी देर बाद ही घने बालों के बीच उनकी गुफा मिल गयी मैने कहाँ बुआ आपकी झाँटो ने तो छेद को ऐसे छुपाये हुये है जैसे की पेड़ किसी गुफा को छुपाते है तब वो हंस पड़ी और बोली साले मादरचोद गुफा बहुत घनी है इसमे तो तू भी अपने लंड समेत समा जायेगा और मैं अपने हाथ को उनकी झाँटदार चूत पे सहलाने लगा और थोड़ी देर बाद ही बुआ अपनी चूत को उभारने लगी और अब वो इतना गरमा गयी थी की खुद ही मुझे चोदने को बोलने लगी आआहह आआआहह इसस्स्स्सस्स ऊऊऊफफफफ्फ़ लल्ला अब रहा नही जा रहा जल्दी से अपना लंड मेरी चूत मे डालो बहुत खुजली हो रही है मैने इतना सुनते ही उनकी चूत को फैलाया और दोनों टाँगों को चीर दिया यहाँ तक की उनकी दोनों टांगे काफ़ी हद तक एकदम सीधी हो गयी थी जिससे उनकी चूत का मुहँ खुल गया था और उनकी टाँगों को और ज़्यादा फैलाते हुए मैं उनकी चूत की तरफ झुकने लगा तब वो बोली साले हरामी टांगे इतनी फैला कर क्या खुद अंदर चूत मे घुसने की तैयारी कर रहा है
तब मैने कहाँ की बुआ अभी चुप रहो और देखती जाओ आज तुम सारी जवानी की चुदाई भूल जाओगी इस तरह से चोदुगा तुम्हे और मैने उनकी फैली हुई लाल और उभरी हुई चूत पर अपना मुँह रख दिया और अपनी ज़बान से उनकी चूत सहलाने लगा बुआ सीसी कर बोली आआआहह लल्ला क्या कर दिया आआआहह हाययययी बहुत गुदगुदी हो रही है आआआहह और मैं अपनी ज़बान से उनकी चूत को काटने लगा और फिर बुआ ने कहाँ क्या ऐसा भी किया जाता है? आज तक मेरे पति ने कभी भी ऐसा मज़ा नही दिया आआअहह बेटा तू तो कमाल का है वाआअहह चूस और ज़ोर से चूस आआअहह साले हरामी चाट  मेरी चूत को तब ही मैने अपनी ज़बान को उसकी चूत मे घुसेड दिया और बुआ उचक पड़ी आआआअहह क्या कर रहा है हरामी मैं कहती हूँ अब मान जा नही तो मैं झड़ने ही वाली हूँ आआआहह और मुझे पता था की अब बुआ झड़ने वाली है तब मैं अपनी ज़बान को ज़ोर ज़ोर से चलाने लगा और थोडी देर मे ही बुआ मेरे मुँह मे ही झड़ गयी और मेरे सिर को पकड़ कर अपने चूत पे दबाने लगी और फिर झड़ने के बाद वो शान्त हो गयी और एक तरफ लेट गयी बोली की बेटा तूने तो बिना लंड डाले ही ज़न्नत का मज़ा दे दिया जब लंड मेरी चूत मे डालेगा तब तो स्वर्ग ही नज़र आ जायेगा मैने उनको अपना लंड पकड़ाते हुए कहाँ साली खुद तो चुसकर झड़ गयी और मेरा लंड अब कौन चूसेगा? और उनके मुँह मे अपना लंड ठेलाने लगा तब वो बोली लल्ला नही ऐसा ना करो मुझे घिंन आती है
तब मैने कहाँ बुआ मज़ा लो आज मेरे शाही लंड का और उनके मुहँ को अपने लंड को उनके होठ पे रख दिया तब वो झीझकते हुये लंड पे अपनी ज़बान फेरने लगी और मैने ज़ोर से अपनी उंगली उनकी चूत मे डाली जिससे वो चीखने के लिये जैसे ही मुँह खोला मैने अपना लंड मुहँ मे घुसेड दिया और धक्के  लगाने लगा थोड़ी देर बाद ही उन्हे मज़ा आने लगा और अब वो बड़े प्यार से मेरा लंड मुँह मे चूसने लगी और मैं उनके मुँह को ही चूत समझ कर धक्के लगाने और थोड़ी देर बाद में उनके मुँह मे खलास हो गया वो मेरे रस को चूसने लगी।
बुआ की 2 जवान और खूबसूरत लड़कियाँ भी मुझसे चुदवाना चाहती थी और वो दोनों कभी कभी मुझे अश्लील इशारा भी करती थी पर मैं नज़रअंदाज़ कर देता दूसरे दिन बुआ खुद ही अपनी चूत लेकर आई रात को और अब तो वो भी मेरी तरह ही खुल कर बात करती थी वो मेरी लूँगी खीचते हुए बोली की लल्ला कल तो तूने आग लगा कर छोड़ दिया था पर आज तो तुझे मेरी चूत की प्यास बुझानी ही पड़ेगी मैने उनकी झांटो भरी चूत पे अपने हाथ से फैला कर एक चुम्मा ले लिया मेरी बुआ सिसक पड़ी आआआआअहह राजा तेरे साथ चुदवाने मे यही तो मज़ा आता है की तू पूरा मज़ा देकर चोदता है जबकि तेरे फूफा खाली टांगे उठा कर चोदना जानते है। बस कभी कभी तो वो कपड़े भी नही उतारते बस ऐसे ही ऊपर से चोद देते है। मैने अपनी जीभ उनकी चूत मे घुसेड दी और चाटने लगा थोड़ी देर बाद ही उनकी चूत से बल बला कर पानी निकल आया और मैने अपना एक हाथ उनकी भारी और उभरी हुई गांड पर फेरने लगा तब वो चिहुक पड़ी और बोली की लल्ला इरादा क्या है मैने कहाँ जब से तेरी गांड देखी है मैने तब ही सोच लिया था की तेरी गांड ना मारी तो कुछ नही किया.
ये बात सुनकर बुआ डर गयी और बोली बेटा ऐसी बात ना करो मैने आज तक गांड नही मरवाई है। और मेरी एक सहेली जिसका पति बिना उसकी गांड मारे सोता नही है वो बता रही थी की गांड मरवाने मे बहुत दर्द होता है जबकि उसके पति का लंड तो सिर्फ़ 6″ इंच का है और तेरा तो पूरा 9″इंच लंबा है। ना बाबा ना मैं तो गांड कभी नही मरवाऊँगी तुम चाहे जैसे भी मेरी चूत 4,6 बार चोद लो पर मैं गांड नही मरवाऊँगी मैने कहाँ नही बुआ आज तो तेरी गांड ही मारूँगा और मैने उन्हे बिस्तर पर धकेल दिया और उनके संभलने से पहले उनकी पीठ पर चढ़ गया और उनकी गांड को सहलाने लगा बुआ अभी बहुत ज़्यादा विरोध कर रही थी एक तरह से गिड़गिडा रही थी बेटा मैं हाथ जोड़ती हूँ मुझे जाने दो मेरी गांड मत फाडो बहुत दर्द होगा मगर मैं तो पूरा पागल हो चुका था
उनकी गांड पर अपने हाथ से सहलाने लगा और कभी कभी चुटकी भी काट लेता था अब उनका विरोध कुछ कम हो रहा था पर वो बहुत डरी हुई थी और अपने ऊपर से मुझे हटाने की पूरी कोशिश कर रही थी तब ही मैने उनकी गांड पे बहुत ज़ोर से हाथ मारा और उनकी फूली हुई गांड लाल हो गयी तब मैने एक हाथ और मारा चटाआआअक की आवाज़ के साथ ही बुआ की चीख निकल पड़ी वो बोली लल्ला मार क्यों रहे हो मैने कहाँ तू चिल्ला बहुत रही है ना रंडी आज देख तेरी गांड का क्या हाल करता हूँ और मैने बहुत सारा थूक उनकी गांड पे थूक दिया और अपने लंड से सहलाने लगा उनकी लाल लाल गांड पे मेरा थूक बहुत अच्छा लग रहा था
तब ही मैं उनके ऊपर से उठ गया और उनको किसी कुत्तिया की तरह दोनों हाथों और घुटनों के सहारे खड़ा किया और उनके पेट के नीचे 2 तकिये लगा दिये जिससे की मेरा धक्का खाने के बाद वो बेड पर ना पसर जाये और मेरा मज़ा किरकिरा न हो जाये तभी बुआ ने कहाँ लल्ला देख मैं आज ज़िंदगी मे पहली बार गांड मरवाने जा रही हूँ प्लीज धीरे धीरे अपना लॅंड घुसेड़ना और हो सके तो पूरा लॅंड ना घुसेड़ना मैने उनका मन रखने को कह दिया जी बुआ आप खामा खा डर रही है अगर आपको तकलीफ़ होगी तो मैं आधे लंड से ही काम चला लूँगा और उनकी गांड को अपने दोनों हाथ से चीर कर अपने लंड  की टोपी को उनकी गांड के लाल छेद से भिड़ाया और एक धक्का मारा मेरा 3″ इंच लंड अंदर घुस गया बुआ की चीख निकल पड़ी आआआआहह उूउउइईईईईईईईई आआअहह मार डाला आआआआअहह निकालो साले मादरचोद बहुत दर्द हो रहा है आआआहह भोसड़ी के साले निकाल ले अपनी माँ की गांड मार लेना अहह और मुझे गुस्सा आ गया तभी मैने एक जोरदार धक्का मारा आहह आआहह बुआ ज़ोर ज़ोर से चिल्लाने लगी और तब ही शायद उनकी दोनो लड़कियाँ भी कॉलेज से आ गयी थी जो पर्दे की आड़ से अपनी माँ को गांड मरवाता देख रही थी और मेरी नज़र भी उन पर पड़ चुकी थी पर उन दोनों को नही पता था की मैं उनको देख चुका हूँ
मैं अपना काम जारी रखते हुए बुआ को जोरदार धक्के मार रहा था अब बुआ की आँख से आंसू निकल रहे थे और वो दर्द के मारे चिल्ला रही थी बोली साले भडवे माना नही और फाड़ ही दी मेरी गांड मैने कहाँ क्या अभी भी तकलीफ़ हो रही है तब बुआ ने कहाँ अब तो गांड फट ही गयी अब पूरी तरह ही फाड़ डाल मेरी गांड को उड़ा दे गांड की धज्जियाँ और फिर मैं ज़ोर ज़ोर से धक्के लगाते हुए अपने लंड को उनकी गांड मे जोर जोर से डालने लगा जिसे दोनों लड़कियाँ अपनी आँखें फाड़ कर देख रही थी और साथ ही मेरे लंड को बहुत भूखी आँखों से देख रही थी उसके बाद मैने उन दोनो लड़कियों की ना कहते हुये भी चुदाई की जिसका ज़िक्र मैं अगली बार बताऊँगा आप अपने मैल इसी तरह करते रहियेगा ओके बाय.धन्यवाद …



Comments