साइकल की चैन – भाग 2

मेरे दिमाग मे तो सुबह का उसका किस ही घूम रहा था..पता नही चला उस का घर कब आगया. मैन बाइक खड़ी की गेट के साइड में.. दरवाजे पर गया बेल बजाई .. मुझे लगा वो हेमा खड़ूस दरवाजा खोलगी.. लेकिन नेहा ने दरवाजा खोला. जैसे ही उसने दरवाजा खोला बस मैं उसे ही देखता रहे गया.
नेहा ने लाल कर्लर की बेबीडॉल नाइटी पहनी हुई थी… जो ऑलमोस्ट ट्रांसपेरेंट थी और उसमें से उसका सब कुछ नज़र आ रहा था.… उसकी नाइटी उसके कमर तक आरही थी.. रेड कलर की पुशअप ब्रा नाईटी में से साफ दिखाई दे रही थी. उसकी पैंटी लाल कलर की ही थी जिस पर एक गुलाब का फूल बना हुआ था.. पैंटी सिर्फ उसके चुत को कवर कर रही थी और बाकी सिर्फ इलास्टिक कमर पर था.. नेहा आज कायतम लग रही थी.. उसके जिस्म की खुशबू मुझ तक पहोच रही थी इस से मैं मदहोश हो राहा था।
तब ही उसने कहा अंदर आओगे या यही से देखोगे… कभी लड़कीं नही देखी क्या.. मैन उसे कहा अबतक ऐसे मैने किसी लड़कीं को नही देखा… उसने मुझे अंदर बुलाया और जैसे ही पलटी तो उसका बैक देखता ही रहे गया .. पीछे से तो ओर भी कहर ढा रही थी.. 34-28-36 का फिगर ओर उसका यू मटक कर चलना। ऐसा लग रहा था अभी जाके पिछेसे पकडलु…. उसकी नाइटी पिछेसे पूरी जालीदर थी.. ओर उसकी पैंटी उस के बम्बस के बीच के दरार में ही थी उसके गोर गोर बम्बस साफ दिखाई दे रहे थे ऐसी पैंटी मैन सिर्फ पोर्न मूवीज में देखी थी.. जो सिर्फ चुत को कवर कर रही थी पीछे से उसके गांड के दरार में से थी बस .. मेरा लिंग खड़ा हो गया था ये सब देख कर..
वो रुकी ओर दरवाजा की ओर मुड़ी ओर दरवाजा बंद कर दिया.. उस की नजर मेरे पैंट में बने उभार पर पड़ी मेरा लिंग खड़ा होने के कारण पैंट में उभार साफ दिखाई दे रहा था.. मेरी हालत को देख कर वो मुस्कुराई ओर मेरे पास आकर गले लगाते हुए मेरे कान में कहा.. थोड़ा इन्तेजार ओर नही कर सकते.. उसने जैसे ही गले लगाया वुसके बूब्स मेरे मेरे छाती पर गड से गये थे एक दम कस के गले लगाया था.नेहा ने अपना एक हात मेरे लंड के ऊपर रख के पैंट के ऊपर से ही लंड को मसलदिया…मेरे बॉडी में एक अलग सी हलचल हुई, ओर मेरे गाल पर किस कर ते हुए मुझे सोफे पर बैठने को कहा…. मेरी तो हालत खराब हो रही थी पहेली बार किसी लड़कीं को ऐसे देखा … बस मेरा मन तो कर रहा था के बस अभी यही लिटाकर शुरू हो जाउ…
मैन उससे पूछा घर पर कोई नही है क्या .. उस ने कहा नही आज नोकरानी छुट्टी पर है और पापा आउट ऑफ सिटी है.. मैने उससे कहा क्या तुम घर मे ऐसे ही रहेती हो उसने कहा नही आज सिर्फ मैं तुम्हारे लिए तैयार हुई हु….
वो मेरे पास ही बैठी थी उस के जिस्म की खुशबू मुझे पागल कर रही थी..मुझ से रह नही गया मैं ने उसके गाल पर किस कर लिया और उसके बूब्स पर हात रख दिया.. तो वो मना कर ते हुए बोली कि पहले रेडी हो जाओ..
मैं ने उससे कहा मैं रेडी हो के ही आया हु.. उस ने कहा ऐसे नही आज तुम सिर्फ मेरे हो और जैसा मैं बोलूंगी सिर्फ वैसे ही करना.. वो मुझे उस के कमरे में ले गई ओर बाथरूम के तरफ इशारा करते हुए कहा जाओ और नाहा कर रेडी हो जाओ.. ओर वही कपड़े रखे हुए है वही पहन कर रेडी होना..
मैं बाथरूम में गया और नहाने लगा .. वह नहाने के बाद मैं ने कपड़े देखे तो अंडरवेअर थी, एक ब्लैक कलर की टीशर्ट ओर एक लोअर ….अंडरवेअर रेड कलर में । अंडरवेअर में लिंग के लिए पाउच बना हुआ था साइड से सिर्फ इलास्टिक बेल्ट थी.. मैन पहेली बार ऐसी अंडरवेअर पहनी थी. रेडी होने के बाद मैं बाहर आया तो वो मेरा बेड पर बैठे हुए मेरा इन्तेजार कर रही थी.. मैन वुसे पूछा ये सब कहा से लाया वुसने कहा ऑनलाइन मंगवाया है..
मैं उसके पास गया और उससे गले से लगा लिया .. उसके बूब्स मेरे सीने में लग रहे थे.. मैन महसूस किया कि वो बहोत ही ज्यादा गर्म मैं .. पहले तो लगा के वुसे बुखार है.. उसने पूछ ने पर बताया कि कुछ नही हुआ है वो ठीक है. वो मेरे गर्दन पर किस कर रही थी.. मैं वुसके पीठ पर हात फेर रहा था. मेरा ये पहेली बार था मै ने ये सब सिर्फ मोबाइल पर ही देखा था.. वो मेरे गर्दन पर किस किये जारही थी.. कभी कान पर। हमारी सासे तेज हो रही थी. मैंने अपने ओठ उसके ओठो पर चिपकादिए वो भी मेरा साथ देने लगी।
मेरे हात अब उस के गांड पर ओर एक हाट उस की पीठ पर था वो मेरे हातो में थी.. मैने नेहा को वैसेही उठा कर बेड पर लिटा दिया.. अब मैं उस के ऊपर था वो मेरे नीचे ऐसे ही हम फ्रेंच किस कर ने लगे थोड़ी देर तक हम ऐसे ही किस करते रहे .. उस ने मुझे खुद से अलग किया और बोला अब से मैं बस तुम्हारी हु.. मैन भी उसए कहा मैं भी अब सिर्फ तुम्हारा हु… उसने फिर से किस कर न शुरू कर दिया..
उस की बॉडी बहोत गर्म थी.. मैन अपना एक हात उसकी पैंटी ऊपर रख दिया और ओर उसकी चुत को मसलने लगा.. उसकी पैंटी गीली हो गई थी ..मैने उसकी नाइटी उतार दी उसकी ब्रा में उसके गोरे गोरे बूब्स दिख रहे थे… मैन वैसे ही उसके बूब्स पर किस किया और उसका ब्रा भी उतार फेका..अब बूब्स मेरे सामने पूरी तरह आजाद थे .. पूरी तरह तने हुए और उसके लाइट ब्रॉउन कलर के नीपल्स बहोत ही अछे दिख रहे थे..मैन उसके बूब्स को चूसना शुरू किया .. वो सिसकारियां लेने लगी… ओर मेरे सर को अपने हातो से अपने बूब्स पर दबाने लगी.. मैन अपने हात की एक उँगली उसके मुह में डाल दी… नेहा मेरी उँगली मजे लेके चूसने लगी.. उसकी आँखें बंद थी..
उसने मुझे अपने ऊपर खिंचा ओर मैन अपने ओठ उस के नरम ओठो पर रख दिये.. हम किस कर ने लगे.. धीरे धीरे.. कभी वो मेरी जुबान चुस्ती तो कभी मैं.. ऐसे ही किस कर ते हुए मुझे अपने पेट की ओर धकेल दिया.. मैं उसके पेट पर किस कर ने लगा.. उस की नाभि में अपनी जुबान डाल कर चाटने .. वो मेरे बाल खिंच रही थी और अपने बूब्स को दबा रही थी.. ओर मिठि मीठी सिसकारियां लेने लगी.. जिससे मैं भी उसमे डूब रहा था .. वुसकी ऐसी आवाजे मुझे अछि लग रही थी…
मैंने अपना एक हात उसकी पैंटी के ऊपर से ही उसकी चुत पर रख दिया तो वो गीली हो जुकी थी .. तो उस ने मेरा हात पकड़ कर अपनी चुत पर दबाने लगी.. वो गर्म हो गई थी… ओर मुझ से कहने लगी इस का कुछ करो जलदी से करो कुछ अब मुझ से रह नही जा रहा है… मै उठा और उसकी पैंटी पर से ही उक की चुत पर किस किया.. नेहा मेरी ओर ऐसे देख रही थी जैसे वो मुझे खा जाए गी… उसकी पैंटी पूरी तरह गीली थी मैंने उसकी पैंटी पर से ही चुत को चाटने लगा.. उसके कामरस का स्वाद मेरे जबान पर था .. जो बहोत टेस्टी था.. फिर मैंने उसकी पैंटी वुतार ने लगा .. उसने अपनी कमर वुपर की… मैने उसकी पैंटी वुतार कर साइड में रखदी… उसकी चुत एक दम साफ थी.. उसके चुत के ओठ एकदम उभरे हुए थे.. हल्की सी गुलाबी दिख रही थी… मैं अपनी उंगलीयो से उसकी चुत के दोनों ओठ खोले.. ओर सहलाने लगा… फिर उसके दोनों टैंगो को खोल कर उस की चुत को चाटने लगा.. मेरी जुबान को उसकी चुत में अंदर डालने की कोशिश कर ने लगा…. अब उसकी सिसकारियां ओर तेज हो गयी थी . मेरा सर पड़कर वो अपनी चुत पर दबाये जारही थी….
15 मिनट तक उस की चुत को ऐसे ही चाटते रहा … वो झड़ने वाली थी .. मेरा सर अपने चुत पर दबाये जारही थी.. उस ने जैसे ही अपना कामरस छोड़ा मैं ने सारा के सारा पिगया.. वो शात होगयी थी.. मैं उठ कर उसे किस कर ने लगा.. उस के बेड के पास ड्रोवर के ऊपर एक चॉकलेट रखा हुआ था… वो लिया और उसके ओठो के ऊपर लगा कर उसके ओठ चूसने लगा … चॉकलेट को मैने मेरे लैंड पर लगा दिया और उससे का चूसने को.. नेहा ने मुझे नीचे किया और वो मेरे ऊपर आगई… ओर चॉकलेट को मेरे बॉडी के ऊपर लगाने लगी.. चॉकलेट का एक टुकड़ा अपने ओठो में रखकर मुझे किस करने लगी… फिर मेरे सीने में लगा हुआ चॉकलेट पाने ज़बान से चाटने लगी.. फिर मेरे लैंड को पकड़ कर अपने मुह में ले कर चूसने लगी.. मैने उसके सर को पकड़कर अपने लंड पर दबाने लगा… 10 मिनट में मैं झड़ने वाला था… उसके सर को मैं तेजीसे आगे पीछे कर ने लगा वो समझ गई.. ओर पूरा लंड अपने मुंह मे लेलिया… ओर मैं उसके उसके मुंह मे ही झड़ गया… उसने मेरा कामरस पी लिया था.. ओर मेरी ओर देख कर मुस्कुराई ओर मेरे ऊपर आगई.. ओर किस कर ते हुए कहा।। मजा आरहा है ना… मैन उससे पूछा तुम्हे ये सब कैसे पता… उसने कंप्यूटर की ओर इशारा किया और मैं समझ गया…
फिर से वो मेरे लंड को सहलाने लगी.. ओर मेरा लंड खड़ा हो गया…कुछ ही देर में हम दोनों फिर से गर्म हो गए थे…मै उसके बूब्स पर टूट पड़ा .. मैं उसके बूब्स चूस रहा था… ओर वो सिसकारियां लेने लग गई… ओर कहने लगी और जोर से चुसो मेरा सारा दूध निकल दो.. नेहा मझ से कहने लगी अपना लंड मेरे मेरे चुत में देदो अब रहा नही जारहा है.. मैं भी उसको बेड के कार्नर में ले गया और उसके टांग को अपने कंधों पर रख दिया और लंड उसके चुत पर रगड़ने लगा.. उस ने कहा के ड्रोवर में कुछ है उसे लैंड पर लगा लो उसे दर्द नही होगा… लुबरेटिक था मैंने अपने लंड पर वो लगा लिया और उस के चुत पर अपना लंड रक दिया और एक झटका मार ही था तो वो चिल्लाने लगे गई..जैसे ही वो चीलाई मैं रुक गया..उसकी आखो में आंसू आगये थे… उसका दर्द कम हुआ मैन दुसरा झटका मारा फिर से वो चिल्लाने लगी तो मैंने उसकी पैंटी जो साइड में पड़ी हुई थी मैने उसे उठाकर नेहा के मुंह मे ठूस दिया… ओर मेरा हात उसके मुँह पर रख दिया… वो छटपटाने लगी… ओर पैंटी को मुँह से बाहर काढ़ ने की कोशिश कर ने लगी… लेकिन मैंने उसेके मुँह को हात से कस कर पकड़ रखा था.. फिर से मैंने अपना लंड जो उसकी चुत में आधा ही गया था.. उसको बाहर निकाला और फिर से उसकी चुत पर रख कर झटका मार मेरे लंड का सुपरा उसकी चुत में चाला गया.. दूसरे झटके में आधा लंड चला गया.. वो बहोत ही ज्यादा तड़पने लगी… उसके मुह में पैंटी होने की वजह से आवाज जड़ नही आरही थी.. हु………. हु…..हु……की ही आवाज आरही थी.. वो मेरे हात को उसके मुँह से हटाने की कोशिश किये जारही थी.. ओर एक हात से मुझे उससे दूर धकेल ने की… वो बहोत तड़प रही थी….. ओर उसकी आँखोंसे आँसू निकल रहे थे…. मैंने झटके मारने बंद नही किये…
मैंने जो कहानिया पढिथी उसमें लड़कीं को दर्द होने के बाद वो जल्द ही उससे आराम मिल जाता है.. लेकिन नेहा के साथ ऐसा कुछ नही हुआ…. उसए रिकवर होने में टाइम लग गया… जैसे ही उसे आराम मिला वो भी मज़े लेने लगी.. अपनी गांड उठा उठा कर मेरा साथ दे रही थी… उसके मुह से मैन अपना हात हटा लिया…. उसने अपने मुह से पैंटी निकल दी.. ओर मुझे अपने ऊपर खिंच लिया.. ओर किस करने लगी..
मैं उसे ओर जोर से चोदने लगा.. उसने अपने नाखून मेरे पीठ में गाड़ दिए. मैं इतना उत्तेजित था मुझे उसके नाखून के बारेमे कुछ पता ही नही चला.. नेहा मुझ से कहे जारही थी.. ओर जोर से चोदो… मैं अब तुम्हारी ही हु… रिज़….. ओर जोरो से करो… नेहा मेरे निचले ओठ को चूसे जारही थी…
हम दोनों का बदन मानो भट्टी की तरह तप रहा था… वो सिसकारियां लेने लग गई.. हम्म रिज़ ओर जोर से करो…. रिज़ ।… ओह्ह ह्म्म… रिज़ … तुम जैसा कहो मैं वैसा ही करु गई रिज़… हम…
ऐसा बोल बोल कर मुझे उतेजित कर ने लग गई.. ऐसी मीठी मीठी बाते मुझे उसका दीवाना बनाने लग गई थी…
वो झड़ने वाली थी.. उसने अपनी टाँगे कस कर दबाली… ओर मुझे कहने लगी।।। और जोर से रिज़ ओर जोर से… ओर वो झड़ गई…मैं भी झड़ने वाला था मैंने उससे कहा… की मैं झड़ने वाला हु.. उसने मुझसे कहा अंदर ही छोड़ दो अब मैं सिर्फ तुम्हारी ही होना चाहती हु.. ओर मैं ने मेरा वीर्य उस के ही चुत में छोड़ दिया… ओर उस के ऊपर ही गिर गया…
मैन उस के कान में कहा ये तुम्हारी पहेली चुदाई थी ना।। उस ने हा में जवाब दिया… मैन पूछा इतना तुम्हे कैसे पता था…. उसने मुझे बताया था के वो एडल्ट मूवीज देखती है.. इस वजह से उसने सब पता किया.. ओर ये सब वो आने होने वाले हसबैंड के साथ करना चाहती थी…
ओर ये नाइटी ओर बाकी का सामना ऑनलाइन मंगवाया है…
हम दोनों ऐसे ही बाते कर ते रहे.. ओर हम दोनों को नींद आगई.. 4 बजे मैं उठा तो देखा नेहा बेड पर नही थी.. मैन अपने टीशर्ट पहनी ओर ओर अंडरवेअर.. रूम से बाहर गया नेहा को आवाज लगाई.. नेहा बाथरूम में से नहाके लिकली.. वो टॉवल लपेटे हुए थी… मैं उसके पास गया और किस करने लगा.. उसने मुझे अपने से दूर करते हुए कहा जल्दीसे फ्रेश हो जाओ और खाना खालो.. मुझे भूक लगी है..मैन मैंने उसे कहा अपना कामरस पिलादो.. वो हँसते हुए बोली… खाना लगा रही हु.. डाइनिंग टेबल पर आजाओ.. ओर वो चली गई…मैं भी नहाके बाहर निकाला और खाना खाने डाइनिंग टेबल पर चला गया.. नेहा नाइटी में थी.. उसने मुझे खाना खा ने के लिए कहा.. खाना खाते हुए उसने अपने सेक्स की ख्वाहिशो के बारे में बताया। उसे BDSM सेक्स कर ने की इच्छा है….. मैंने उसे कहा आज रात भी हमारी ही है.. जैसा करना है वैसे करेगे…
लेकिन ये कहानी फिर कभी बताउगा.. हम दोनों की लाइफ की स्टोरी “साइकल की चैन” से शुरू हुई थी.
मैं बहोत लकी हु मुझे ऐसी लड़की मिली जो मेरे साथ पूरी लाइफ बिताने वाली है… ओर ये स्टोरी हमदोनो के सहमति से लिखी हुई है….

आप को मेरे कहानी अछि लगी होतो प्लीज् मुझे बताना…
अभी तो सिर्फ शुरवात हुई थी सेक्स लाइफ की.. आगे भी है बहोत कुछ बताने के लिए…..

मेरा ईमेल ईडी [email protected]

Comments