सुनीता दीदी को रिलैक्स किया

दोस्तों मेरा नाम विक्की है और मैं कॉलेज में पढाई कर रहा हूँ. मैं अपनी बड़ी दीदी सुनीता के साथ पुणे में रहता हूँ. दीदी की उम्र २८ साल है और वो एक कंपनी में काम करती है. सुनीता दीदी दिखने में बहुत ही सेक्सी है. सुन्दर चेहरा, गोरा रंग, लम्बी हाइट और चौड़ा भरा हुआ जवान जिस्म की खूबसूरती बयान करती है. मैं दीदी के फिगर (३८-३०-४०) का दीवाना हूँ.
दीदी की बड़े बड़े आम और बाहर निकली हुई चौड़ी भारी गांड मेरा बदन में आग लगा देती है.
दीदी ऑफिस के लिए हमेशा टाइट शर्ट और स्कर्ट पहनती है. शर्ट में दीदी की कैद चूचियां दो बड़े बड़े पहाड़ लगती है. जब दीदी चलती है तो उनकी हवा में उछलती हुई चूचियां लंड खड़ा कर देती है. और स्कर्ट में फंसे हुए भारी चुत्तड़ बहुत ही मादक लगती है. बहुत बड़ी और चौड़ी गांड थी साली की. मैं हमेशा दीदी की चूचियों और गांड को ताड़ता रहता हूँ. दीदी ने भी काफी बार नोटिस किया, पर कुछ बोली नहीं.
कुछ दिनों से दीदी ऑफिस से लेट आती थी और काफी टेन्स भी रहती है. मैंने एक दिन पूछ ही लिया

मैं: क्या बात है दीदी बहुत टेंशन में लग रही हो आज कल
दीदी: क्या करू भाई काम का बहुत प्रेशर
मैं: रिलैक्स करो दीदी आज तो फ्राइडे .. चिल मारो
दीदी: नहीं भाई बहुत काम है मनडे तक रिपोर्ट सबमिट करनी है
मैं: अरे दीदी आप दिन भर काम काम करती हो… थोड़ा रिलैक्स किया करो मेरी तरह.. एक काम करो दीदी आप मेरे साथ चलो बाहर मैं आपको रिलैक्स करता हूँ
दीदी: नहीं भाई बहुत टायर्ड हूँ
मैं: चलो ना दीदी मैं आपको पूरा रिलैक्स कर दूंगा
दीदी: चल ठीक है विक्की .. चलते है बाहर

मैं दीदी को एक डिस्को ले गया. वहा मैं और दीदी ड्रिंक करने लगे. ३ पेग के बाद दीदी को नशा चढ़ने लगा..और वो भी मजा करने लगी

दीदी: सच में भाई मजा आ रहा है..
मैं: दीदी रिलैक्स होना है तो मेरी तरह शर्ट के एक बटन खोल दो

मैंने अपनी शर्ट के एक बटन खोल दिए. दीदी ने भी अपनी शर्ट का एक बटन खोल दिया. अब उसका क्लीवेज दिखने लगा.

मैं: रिलैक्स लगा ना दीदी
दीदी: हाँ भाई अब थोड़ा अच्छा लग रहा है
मैं: दीदी एक बटन और खोल दो अच्छा लगेगा

दीदी ने अपनी शर्ट का एक बटन और खोल दिया. अब उसकी बड़ी बड़ी चूचियों का काफी भाग मुझे नंगा दिख रहा था, जब वो साँस ले रही थी तो उनकी चूचियां काफी हिल रही थी.

दीदी: चल भाई डांस करते है
मैं: ठीक है दीदी

दीदी को दारू काफी चढ़ गयी थी. वो बेतहाशा डांस कर रही थी. मैंने दीदी को अपनी ओर खींचा और उनके चिपक कर नाचने लगा. मेरा हाथ दीदी की कमर पर था

दीदी: भाई थैंकू तुमने मेरा टेंशन दूर कर दिया
मैं: दीदी मैं आपकी पूरी थकान और चिंता दूर कर दूंगा

अब मेरा हाथ दीदी की भारी गांड पर था, जिसे मैं हल्का हल्का दबाने लगा. मस्त बड़ी और सॉफ्ट चुत्तड़ थी साली की. दीदी को कोई होश नहीं था.. जब डिस्को की लाइट धीमी होती तो मैं दीदी की चूचियों को भी दबा देता…

दीदी: आअह्हह्ह्ह्ह भाई ये क्या कर रहा है
मैं: कुछ नहीं दीदी मैं आपको पूरा रिलैक्स कर रहा हूँ

मैंने दीदी को किश किया और उनकी बड़ी चूचियों को पकड़ कर दबाने लगा… दीदी की मुंह से आहे निकलने लगी. एक तरफ दारू का नशा और दूसरी तरफ जवानी की आग, दीदी का भी कण्ट्रोल ख़तम हो रहा था…

दीदी: उईईईईई भाई… मत कर ऐसा… मुझे कुछ हो रहा है
मैं: दीदी बस आप मजा लो…. आज आपको मैं पूरा रिलैक्स कर दूंगा
दीदी: अह्ह्ह्हह्ह्ह्ह यहाँ मत कर … चल घर चलते है…
मैं: ठीक है दीदी

मैं और दीदी घर के लिए निकल गए. दीदी मुझसे आँख नहीं मिला रही थी. दीदी ने एक केमिस्ट की दुकान पर गाडी रोकने बोली

दीदी: भाई कंडोम ले ले… पता नहीं आज क्या होने वाला है
मैं: हाँ दीदी…

मैंने कंडोम का बड़ा पैक ले लिया… और मैं गाड़ी चलाने लगा. हमदोनो अपने फ्लैट पहुंचे, दीदी ने दरवाजा खोला. मैं दीदी के पीछे ही खड़ा था. मैंने तुरंत दरवाजा खोला और दीदी को अपनी बांहो में भर लिया. मैं दीदी को किश करने लगा.. दीदी भी मेरे किश का जवाब दे रही थी. अह्ह्ह्हह्ह्ह्हह भाई….. उउइइइइइइ ……मेरा हाथ दीदी की भारी चुत्तड़ो को दबा रहा था… मस्त सेक्सी गांड थी साली की..

मैं: उफ्फ्फ्फ़ दीदी क्या सेक्सी भारी गांड है आपकी…मजा आ रहा है इन्हे दबा कर…आपको मजा आ रहा है ना
दीदी: हाँ विक्की बहुत अच्छा लग रहा है…

मैंने दीदी को पलट दिया और पीछे से पकड़ लिया. अब मेरा खड़ा लंड दीदी की भारी गांड का मजा ले रहा था और मैं दीदी की आमो को दबा रहा था..

दीदी: आआअह्ह्ह्हह्हह भाई धीरे दबा
मैं: अह्हह्ह्ह्ह दीदी इतनी बड़ी बड़ी चूचियां मैंने आज तक नहीं देखि है
दीदी: उईईईईई भाई अह्हह्ह्ह्ह फिर दबा दबा कर चूस ले

मैं दीदी के शर्ट का बटन खोलने लगा और दीदी की चूचियों को आजाद कर दिया. बड़े बड़े तरबूज के जैसी चूचियां थी. जिसे मैंने खूब दबाया और चूसा..

दीदी: आआह्ह्ह्हह भाई… कुछ कर निचे मैं मरी जा रही हूँ
मैंने दीदी की स्कर्ट उतर दी और उनकी चड्डी भी. अब दीदी बिलकुल नंगी मेरे सामने खड़ी थी. दीदी ने मेरी पैंट उतरी और लंड को चूसने लगी. दीदी की चुसाई से मेरा लंड पूरा अकड़ गया..

मैं: दीदी अब अपने भाई के लंड पर कंडोम भी चढ़ा दो
दीदी ने बड़े प्यार से मेरे लंड पर कंडोम चढ़ाया. मैंने दीदी को उनके बिस्तर पर फेंक दिया. २८ साल की सेक्सी गदरायी माल का बदन मेरे सामने नंगा था.

मैं: दीदी पूरा रिलैक्स होना है
दीदी: हाँ भाई पर कैसे
मैं: दीदी जब ये लंड आपकी बूर में जायेगा और आपकी चुदाई होगी तब आप पूरा रिलैक्स हो जाओगी
दीदी: ऐसा है तो भाई … देर ना कर चोद दे मुझे… डाल दे अपना मुसल लंड मेरी चुत में और ले ले मेरी गदरायी जवानी का मजा

मैंने दीदी की चुत में लंड रखा और घुसाने लगा. एक करारे शार्ट में लंड का सुपाड़ा दीदी की बूर में चला गया.. दीदी की चीखे निकल आयी… उईईईईई माँ मर गयी भाई….मैं दीदी की चूचियों को मसलता हुआ लंड घुसाने लगा. थोड़ी देर में मेरे लंड ने सुनीता दीदी की बूर में जगह बना लिया. अब मैं दीदी को मस्ती से चोदने लगा…

दीदी: उईईईईई भाई बहुत जालिम लंड है तेरा… मेरी बूर फाड़ दी तूने
मैं: उफ्फ्फ दीदी इतनी बड़ी बड़ी चूचियां और गांड दिखाओगी तो बूर तो फटनी ही है…
दीदी: आआअह्हह्ह्ह्ह बहुत मजा आ रहा है भाई … थोड़ा तेज मार मेरी चुत बहनचोद
मैं: येले मेरी सुनीता रंडी… खा अपने भाई का लंड

मैं बहुत तेजी से दीदी को चोद रहा था. मेरा लंड दीदी की बूर में धका धक् अंदर बाहर हो रहा था. दीदी के तरबूज हवा में बहुत उछल रहे थे.. जिन्हे मैं दबा दबा कर चोद रहा था…
थोड़ी देर बाद मैंने दीदी को डॉगी स्टाइल में लिए और पीछे से उसकी चुत ठोकने लगा. दीदी की चौड़ी चुत्तड़ को पकड़ को चोदने में बहुत मजा आ रहा था..दीदी की नंगी चूचियों को दबा कर मैं उनकी चुदाई कर रहा था…

दीदी: अह्ह्ह्हह्हह भाई और मार… लगा लम्बे शॉट्स बहनचोद
मैं: ओह्ह्ह्हह्ह मेरी रांड दीदी … आज तो मैं तेरी बूर का भोसड़ा बना दूंगा
दीदी: उईईईईई ,… उउउउउउउउ आअह्ह्ह्हह भाई …मेरा आने वाला है … थोड़ा जोर से चोद अपनी बहन को
मैं: ठीक है दीदी….

मैंने अपनी रफ़्तार बड़ा और तेजी से दीदी की बूर चोदने लगा.. घमासान चुदाई के बाद हमदोनो झड गए.

दीदी: ओह माय स्वीट ब्रदर… तूने पूरा रिलैक्स कर दिया मुझे… थैंक्यू

दीदी मेरे बदन को किश करने लगी और मुझसे लिपट कर सो गयी.

Comments