दीपा आंटी की धमाकेदार चुदाई

मई योगु आगे 24 महाराष्ट्रा से हू.अपनी नयी स्टोरी लेके हाजिर हू,सो लॅडीस आंटी और्र भाभी अपनी अपनी छूट मई उंगली डालने को तैयार रो और स्टोरी कैसी ल्गी जरूर बताना मई आपके मैल का इंतज़ार करूँगा. ये स्टोरी मेरी और मेरे पड़ोसन दीपा आंटी की है क्या मस्त गदराया बदन हेर उनका देखते ही लंड खड़ा हो जाता है. उनकी आगे 40 साल है.फिग बूब्स बहुत मस्त 38 कमर 34 और गंद का तो जवाब न्ही 40 की मूज़े ऐसे मस्त गदराए हारे भरे लॅडीस लड़किया औरते जाड़ा पसंद हेर.
अब बताता हू स्टोरी मई हमेशा उनको सेक्सी नज़रोसे देखता था एक दिन वो कपड़ा धो र्ही थी मई उनके पास जाकर बैठ और उनके बड़े बड़े बूब्स देखते उनसे बाते करने ल्गा वो क्या रे आज बहुत बाते क्र रा है मई कुछ न्ही आपजासे जानदार और शानदार आंटी से तो बाते करना मेरा शौक है और हेस्ट हुए वो अपने पल्लू को गिरती हुई वैसे सिर्फ़ बाते ही क्रटा हा या कोई शानदार कम भी किया है क्या आब ट्के और मेरे लंड की और देखते हासणे लगी.मई आप एक मोका तो दो तो बता देता हू कितना अच्छा आपका कम शानदार करता हू और उनकी सारी उप्र होने क कारण उनकी चिकनी मस्त गदराई जंगो को देखते बोला वैसे आप तो बदी जानदार दर बनी हो आडर से भी और बाहर से भी खते बहाना बनरे उनकी छूट देखने का मोका देख रा था.म्ग्र अंदर न्ही दिख रा था तो उन्होने हल्केसे अपनी घुटनो को और खोलते ऐसे बैठ गयइ जिससे मूज़े उनकी मस्त क्रीम कोलौर की पनटी दिखाई दी जाए और ढोने लगी और आयेज पीछे जैसे हियाती वैसे उन्हे आवज़ और मादक बनाते मूज़े रीज़ने लगी इनडाइरेक्ट्ली मई उनकी गोरी चिकनी गदराई मोटी मोटी भारी हुई जंगे देख क्र मूह मई पानी आते अपनी जीभ होतो पे फिरने ल्गा आअघह नूहह मई तो पागलो की त्रहा उनको देख रा था वो जानती थी की मई उनसे क्या चाहता हू म्ग्र फिक्स पता करने क लिए और मूज़े भड़काने क लिए ऐसा क्र र्ही थी अचंक वो कपड़े सूखने जाने क लिए उठी वो बोली योगु जरा आयेज आ लगता है मेरी सारी मई चिटी घुस गयइ है कही काट ना ले देख तो जरा मई आगे बढ़ते कहा है आंटी उसने अपनी पॅव को सिफ़हा करते सयद जंगो प्र है उसे निकक दे मेरे हट मई कपड़े है.
मई आ आगे बढ़ते हा आंटी रूको मई देखता हू करके उनके सामनेघूटने टेक क बैठा और उनकी मस्त चिकनी टॅंगो प्र हट रखते धीरे धीरे सहलाने ल्गा अंजन्न बंते कहा आंटी कहते उनकी सारी मई अपना सर अंदर घुसाया मेरी सासे बहुत ग्राम होकर तेज़ी से चल र्ही थी और सर अंदर डालने क वजह से उनकी छूट की महक मूज़े और कम्मोतेज़ित क्र र्ही थी अहहहाः आहह मई अपना हट गदराई जंगो पर सहलाते देखने लगा वो भी मज़ा लेने ल्गी थी आहह और उप्र करके मई उनकी छूट को पनटी क उप्र नाक लेक सुंगने लगा तभी बोली हा सयद अंदर गयइ है और मूज़े ज़त से बाहर निकाला और देखने ल्गी मई अपने आप मई न्ही था ऐसा लगा साली को अभी पटक क्र व्ह छोड़ूँगर रिस्क था सो मई चुप छाप खड़ा रा. मई मूह बनके वही उनका इंतज़ार क्र रा था वो एब्ब धुले हुए कपड़े सूखने दल क आई और दूसरे कपड़े लाई मई बोला क्या हुआ आंटी चिटी मिली क्या
कही कटा तो नही ना वो हेस्ट मेरे लूंबे खड़े हुए लंड को पंत मई तंबू बनाए देखते हुए बोली नही लगता है वोट भाग गयइ और कपड़े ढोने ल्गी मई आब्ब उनके और तोड़ा नामे देखते आब्ब दूसरी और देख रा था लंड को दबाते म्ग्र वोट बार बार मूज़े बाते करने की कोशिश करते अपनी और देखने को बोल रही थी अचंक उसने कुछ मेरी टरफ़ फेकते ऐसा जताया ढोते व्क्त आगेया हो टीबी मैने मैने ज्ब द्‍यान से देखा.तो वो व्ह पनटी थी जो आभी थोड़ी देर पहले उसने पँहि थी एर वॉकब शी मेरा ध्यान अपनी और खिचने को ट्राइ क्र र्ही थी अंजान बने जांबूज़के अपने पैर फिलाए बैठी थी. मई तो देखता ही रह गया आब तो उसकी मस्त गदराई गोरी जंगे सॉफ साफ दिख र्ही थी और मेरी नज़र और अंदर गयइ तो देखा उनकी मस्त पिंक कलर की छूट सॉफ नज़र आ र्ही थी थोडेसे बाल थे उनलभरी हुई मस्त फुल्ली फुई उनकी कछूट क होत बहुत मस्त लग रहे थे मई वो नज़ारा देखते ही मेरी जीभ होतो पे घूमते आयेज ज़ुकाकर देखने लगा…वैसे आंटी चिटी ना काट ही लिया आख़िर हेस्ट हुए…आप कहो तो तोड़ा पानी लगाओ ठंडा प्ड जाएगा कहते बाते करने लगा वो भी नाटक करते हा आब क्या क्रे मेरे पिछी प्ड गयइ और नीचे घुस गयइ..और आब तो जंगे जाड़ा चौड़ी करके कपड़े ढोने की स्प्पेड बधड़ी जैसे चुदाई क व्क्त ज़टके मरते आयेज पीछे होते है ना बिल्कुल वैसा बदन हिला र्ही थी ..और अनपने कंगन की ववज़ भी उस माहौल मई पागल ब्नाने पे तुली thi.
मूह से आअहह आ आ ससी सी ससिईई हम्म जांबूचके आवज़े निकल र्ही थी….आब मई बोला आंटी आप क पति बहुत लकी है आपकी जैसे कमसिन सेक्सी भारी हुई बीवी क साथ रोज मज़ा करते होंगे कहते आपका बदन भी आपने बहुत चुस्त र्खा है काश आप जैसे कोई मिल जाए तो मई भी मज़ा लेना चाहूँगा….इतने मई वो बोली क्या करे वो तो जात से सो जाते है और मूज़े मज़ा न्ही दे पाते हफ़्ता भर मई कभी कभार प्यार करते है…व्रना मई और मस्त हो जाती …कोई होता तो और ह्र रोज मज़ा कर लेती कहते…अचंक बोली अरे जरा अंदर आ मेरी सदी मई अभिभि चिटी है शायद कहते ही मई उनके गदराई हिलती हुई गंद को देखते पीछे घर मई घुसा …तो वो ज़त से सदी क अंदर ज़ाक क देख कही देखती है क्या और आचेसे शांत कर दे इश्स चिटी से मूज़े कहते मैने उन्हे लिटाकर उनकी सदी को उठाके ज़त से मूह सीधा छूट पे लगाके अंदर जीभ डालके चटपटते उनका रस्स चाटने लगा वो अपनी गदराई जंगो क बीच मेरा सर और अंदर दबाते छूट चुसवाने लगी मेरे बालो मई हट फिरते छटपटाने लगी मई अपने हट उनकी डेरेदार पेट पे ले जा क्र सहलाने लगा आहह उहह मुउहह उहह ऐयनती कितने दिन से मई आपको छोड़ना चाहता था.
आज पूरी कर डी अपने मेरी तम्माना,…वो भी बोली योगु मेरी जान मई भी कितने दिन से तुज़से छुड़वाना चाहती हू और मई आब उनके ब्ल्ौज़ को खोलते ब्रा भी खोलते बड़े बड़े स्टअन्न्न को सहलाते मेरे हटो से कचा कच बदते मई आब मेरी हट से उनका पूरा पेटीकोत सारी निकल दे और उन्होने भी मूज़े नंगा करके मेरा 7.2 का लंड देखते ही पागलो की त्रहा चुम्मा चाटती करते मूज़े बोली योगु क्या मस्त लंड है रे तेरा आज से इससे ही चड़वौनगी ज्ब भी मोका मिलेगा और ह्म 69 मई होकर वो मेरा लंड लोल्यपोप की त्रहा चूस्ते हट से सहलाते मूह मई अंदर ट्के लेके मूज़े जन्नत का एहसास दिलवा र्ही थी आहह उहह मई भी उनकी रस्सीलि कामसीँ रसभरी छूट को चाटते हुए गदराई गंद को मस्त हटो से बदोचते और गंद की छेड़ को कुरेदते मज़ा दिला रा था ह्म आब्ब सिफफ्फ़ आहह उः सस्सीए उजहह मुयहह ईीस्स आस्स आहह आ की आवज़ क साथ दोनो को रेस्पॉन्स दे र्हे थे एक भी शब्द न्ही बोल पा र्हे थे …वो आब मेरे मूह मई झाड़ गयइ और मैने उनका कमरस छूट मई जीभ दल दल क्र चूसने लगा क्या मस्त स्वादता नमकीन मीठा वा मई आब उनके मूह मई मूह डालके ह्म आब स्मूच करने लगे आब मई मेरा लंड उनकी छूट प्र घिसते हुए उनकी गदराई जंगो प्र जंगे घिसते हट से पेट प्र उंगली घूमते और हल्के से कभी गंद दबाते कभी गाल प्र किस करता तो कभी गले प्रर और हल्के किस क साथ निपल चूसने लगता.आब वो अपना सर चटपटते मूज़े बोल र्ही थी योगुऊु आब्ब लंड दल क छोड़ मेरी प्यासी छूट को कब से ये तेरे से चुड़वानेको बेताब है प्लस्स आहह सीए उहह आजा मेरे योगुऊु आ एब्ब रा नही जाता कहते उन्होने मेरे लंड को हट मई लेके ज़ोर से दबाते अपनी छूट क मूह पर घिसते टोपा छूट क छेड़ प्र र्खा और नीचेसे गंद उठाकर खुद लुंदनदर लेने की कोशिश करने ल्गी मई उनकी इश्स प्रयास को देखते उनकी प्यास भारी आखो मई देखते हेस्ट हुए उनके होत प्र होत रखते चूस्ते हुए मूह मई मूह डालके
आब नीचेसे उनकी गंद को हाथो मई पकड़ कर ज़ोर का ज़टका लगाड़िया …वो करहा उठी और मेरे होत को कातते चिकना चाहती थी मगर उसके मूह को पहले से ही मैने अपने मूह से बंद क्र र्खा था मूज़े अंदाज़ा लगता की वो जरूर चीखने की कोशिश करेगी…आब्ब मई गाचा गछ मेरा लंड इश्स बार क ज़टके से उनकी छूट की मक्खन जैसे स्मूद गरम दीवारो को सर सर से चीरते हुए उनकी गर्भाशय को जा टकराया मई आब्ब पूरागर्म होकर उको छोड़ने मई ल्गा आहह आहह
वो एब्ब एंजाय करनेलगी थी और नीचे से अपने कूल्हे उठा उठा कर मेरा साथ दे र्ही थी मई हर ज़टके क साथ ज़ोर से अपना लंड छूट मई डालता और ज़टके क साथ उनके बड़े बड़े स्टअन्न्न टन टन करते ज़ुलने लगे आहह हमारे बदन की घिसवट से आहह छत छत फतफ्ट फतफ्ट आज उउहह उहह उहम्म ऊओ ससी ऐसे आवाज़ो से पूरा कमरा गूँज रा था आअब ह्म दोनो एकदुरेसए अपनी प्यसस को शांत करने पे ध्यान दे र्हे थे वो हर ज़टके क साथ मेरी गंद को अपने पंजो मई लेकर दबाती आहह मई सतसट उनकी छूट की दीवारो को चेरते हुए जन्मो क प्यासे लंड को उनकी छूट की गंगा मई डुबकिया लेने मई मगशुल होकर पागलो की त्रहा उन्हे छोड़े जा रहता.
आब मई सतसट सतसट फटाफट छोड़े जा राहा था आआआःह्ह आहह अहह ऊओह ऊहह ईएसस्स एस्स एस मई सतसट सतसट फटाफट छोड़े जा रा था आब ट्के वो भी कसकस क नीचे से अपनी गदराई गंद को उठा उतक्र छुड़वा र्ही थी आब्ब ह्म दोनो भी ज़दने की कगार प्र थे आब वो सीत्कारे हुई मूज़े और ज़ोर से रफातार बड़ाने को बोल र्ही थी मई भी बुल्लेत्ते ट्रेन की रफ़्तार लेकर छोड़ रा था आचंक ह्म दोनो एकसात मई ज़्ाद गये मेरे लंड ने चुटमाई ही पानी दल दिया 6-7 बार ज़टकेमरए अंदर ही उसी व्क्त उनकी छूट ने भी अपना गरम पानी छोड़और ह्म दोनो की कामरससे एक दूसरे को नहलकर ह्म. हम अब एक दूसरे को पकडक्र दूसरे किी बहो मई क़ास्स्स क पकड़ क्र मूह मौह मूह डाले नंगे ही थोड़े देर ट्के एकदुसरे की आखो मई देखते आखोसे बाटेकरते र्हे.
मई उसे अपनी बहो मई लेकर प्यार से गालो पार चूमता तो कभी नाक प्र तो कभी फोर हेड प्र और गले प्र ऐसे करते हाथो से उनकी प्यारी स्टअंन बूब्स को और निपल को भी दबाता उनके हट मई हाथ डालके मसलता ऐसा करते पैर की उंगली को अपनी उंगली अंगउते और उंगली से दल क घिसते हुए उनकी गदराई गोरी जंगो प्र जंफे घिसते उन्हे प्यारर करता रा.वो भी मेरे सर मई बालो मई हट रखते मेरे बालो को हट की उंगली सेसहलारही थी आहह उहह ऑश मुहह कीिसस भी करती बीच बीच मई मेरी आपको को कीइसस्स क्र र्ही थी (ये स्टोरी काल्पनिक है मेरी फॅंटेसी से लिखी है)ऐसे करते करते ह्म फ़ि गरम हो गये और इश्स बार वो उठ कर मेरा लंड सहलाते पूरा खड़ा करके उसपे कीिसस लरके लगीमाई उनकी सस्टंन को दबाते हुए छूट मई उंगली करने लगा आहह मुहह वो मेरे लंड को हट से पकड़ते आब मेरे लंड प्र छूट रखते ज़ोर से गंद को लंड पे दबाते कूदी मेरा लंड सर सर करते पूरा उसकी छूट मई समा गया आहह अहहुहह मुहवॉ आब आपकी गंद को उठा उठा कार मेरा लंड चूर मई ले र्ही थी उनके उछालने क कारण उनकी स्टअन्न्न ज़ोर ज़ोर से उछलकूद करने ल्ग गयइ थी.
और मई और उत्तेजित हुए नीचेसे अपनी गंद को उठा उठाकर लंड उठाते उनकी छूट मारे जा रहा था नीचे से मई और उप्र से आंटी आहह आहह मुहह हमारे बदन फट फट की धक्को के रेल की रफ़्तार से बौछार से बड़ी घर्षण पैदा करते हमारे बदन की आवाआववज़ से और ह्म दोनो की कामुक चीत्कारो से पूरा कमरफिर से गूँज रा था.आ हहुहौऊूहह मुहह य्या या एयेए हह आहह औउहह आऔंतययी मुहह आहह वो भी यूओगुऊ मुहह से अब फटाफट मेरी गोतिया ह्र धक्के क सतह उबकी गदराई गंद पे टकराते ऐसा ल्ग रा था छाप छाप की आवज़ करते जैसे उनकी गंद को किस कर र्ही हो.आ पच पच पच वो आब सरर्त करते लंड पूरा गंद मई लिए अपनी गदराई गोरी गंद को गोल गोल घूमने लगी इश्स वहाः से लंड पूरा उनकी मसल कामुक छूट क ह्र एक कोने मई जाकर अपनी गर्माहट से उसे मस्त क्र रा था आ ह्म आब्ब ज़त से दूसरी पोज़िशन ली.
अब मैने इश्स बार मेरी कंसिन आंटी उन्हे डॉगी स्टाइल मई खड़ा क्र पीछे से उनकी गंद को ज़ोर से ज़ोर से हट क पंजो से ठप ठप थपथपाते चमते मरते एक किस किया,और अपना लंड ज़ोर से छूट मई घुसा दिया उनकी मस्त गोरी गोरी मद मस्त मास से भारी गंद और फूल कर चौड़ी हो क्र फैली देखकर मई तो और पागल हो क्र ज़ोर ज़ोर से छोड़ने लगा ह्र एक धक्के क साथ वो आयेज पीछे हो र्ही थी.उनके स्टअंन मेरे ह्र ज़टके क साथ फटा फट आवाज़ करते उप्र नीचे फट फट की आवज़ करते हिलने लगे थे मई भी गंद को ज़ोर से दबाता तो कभी ज़ोर से थपथपाते चमते मरता इसके कारण उनकी गांद पूरी लाल हो चुकी थी,और चमते और मेरे ढके से उनकी गंद की माज़ ज़ोर से आयेज पीछे हिल र्ही थी आहह उहह श फाट फटत आहह मुहह उहब ऑश,सी सी आहह या या आहह उहह आब मई सतसट उनकी कमर पकड़कर छोड़ने लगा आहह आब्ब्ब मई तोड़ज़्ुककृुंकेबाल पकड़ कार छोड़नेलागा आहह उहह मुहह औह याइया औंतयी एसस्स उहह एस्स हुउँो आअहह आ आ अहहाः एब्ब मई और वो भी ज़्ाद गये और मई वैसे ही इनकी गंद पर उनके उपर गिरा और उसने अपना मूह घूमकर मु जे किस किया और्र मेरे हाथ अपने बूब्स प्र रखते डिबेट ह्म वैसे थोड़े दर्र लेते र्हे फिर लेते लेते मैने उनके बहो क अंदर हट डालते उनके मस्त बड़े बड़े बूब्स को अपने हटो से मसलते हुए अपनी गंद को गोल गोल घूमता रा इससे मेरा लंड उनकी गंद की दरार मई लंड रगड़ने ल्गा.
अब वो भी बड़ी मेरी आंटी बड़ी कमसिन नज़रो से मूह पलट कर हेस्ट हुए मेरी गंद पे चमता मरते हुए गंद को नोचते हुए बोली लगता है अभी भी मान नही भरा मेरे योगु का और हेस्ट हुए मेरे होतो पर अपने होत रखते और जीभ घूमते फिरते मेरा लंड पकड़ कर दबोचते अपनी एक तंग घुटने मई मोदकर आयेज क्र डी इससे उनकी छूट डब आगी और जाड़ा टाइट हो गयइ इश्स पॉस.मैने जात सेआपना कड़त खड़ा हुआ जो गंद प्र मसालने से पहलेसे से तैयार था वैसे ही उनकी छूट मई घुसते हाथ से स्टअंन बूब्स को कचा कच निचोड़ता कभी खड़े हुए टाइट निपल को अंगूठे औ उंगली क बीच लेके ज़ोर ज़ोर से कुरेदते मसालने लगाअहह वो ज़ोर से कसमसाते हुए दर्द से कहराते बोली बाबयी धीरे क्र बहुत डरड होता है तू तो पागल होगआया योगुऊु और मेरे जटके क साथ मूह से सिसकिया निकलते मूज़े साथ देने लगी और मूह से आऔह कितना मज़ा दिया तुमने मेरी लाइफ मई मैने ऐसा सेक्स अब ट्के कभी नही किया बाबयी कहटेबदबदते कामवसना से मस्टमस्त कामुक मदमस्त सिसकिया लेते मज़ा ले र्ही थी आहूउूहह मई आब फॅक फचाआहह स3ए3ए फॅक की आवज़्ज़ करते वैसे छोड़ते हुए आब फुल्लसपीड की रत्टर मई छोड़ रा था अचंक उनकी छूट क मसल गर्म गर्म छूट की दीवारो ने मेरे लंड प्र दबाव बनाते क्स क्षटे अपनी गर्म देववारो से कसना चालू किया,
इश्स बार वो इतना ज़ोर से कस रही थी मूज़े मेरे लंड भी उनकी छूट की गर्मी से उनके साथ पानी छोड़ने प्र मजबूर किया.मई और उन्होने एक साथ पानी छोड़ा क्या बतौ कितना मज़ा आता है ज्ब दोनोेक साथ कामरस एकसाथ छोड़ते है तो और मई इश्स लुंबी चुदाई से बहुत तक चुके थे वैसे ही ह्म नंगे छिपकके लेते र्हे दोनो क्ब क्ब नींद लगी पता हिनह्ी लगा. तो कैसे लगी मेरी स्टोरी मूज़े मैल करके बताना जरूर, email hai [email protected] aur [email protected] इस प्र मैल करना.

Comments

Published by

Yogu4u

M 25 years old handsome boy . I need secret ladies partner for chat sex chat n for one night stand m form Pune Mumbai pls koi aunty bhabhi ya mature ladies secret sex karna chahti ho to muze [email protected] pr mail kariye aur hangout or bhi msg kar Sakti ho. Agar koi bhi ladies aunty bhabhi divorcee girl housewife agar secret sex ya one night stand karna chahti ho, ya koi ladies milkar threesome ya four some karna chahti ho to bhi batana. Main aajkal callboy ya gigolo ka bhi job karna chahta hu. Paiso ke liye nahi bas enjoyment ke liye baki apko jo dena hai apke satisfaction ke bad gift samajhkar de dena. Taki jo ladies sex ki pyasi rahti hai unko pura maza de saku aur ek samazseva kar saku. Aur mera bhi enjoy ho jaye. Agar kisi ladies ke paas paise nahi ho. Aur woh bhi mere sath enjoy karna chahti ho to woh bhi msg kare. Main jarur aapko chodkar ya aapki marji ho waise aapko pura satisfaction dunga. Paise nahi lunga unse dont worry. Mera email id hai [email protected] aur [email protected] par. Aap google hangout par bhi msg kar sakte ho. Abhi main Mumbai mein job kar raha hu. Koi bhi Mumbai Pune Kolhapur Goa Surat Ahmdabad ya kahise bhi ho. Agar secret sex karna chahti ho to jarur batana mujhe. Aur main kisiko pata nahi chalne dunga. Bas sab hamare beech rahega pura 100% secret. So jaldise message ya mail karo. Aur Mai apke msg ka intazaar karunga.