भावना भाभी को चोदा

नमस्कार दोस्तो…..मैने अन्तर्वासना में लगभग सारी कहानियां पढ़ी है। कई बार तो मैंने मुठ भी मारे। सब की कहानियों को पढ़कर मुझे लगा में भी अपनी कहाँनी पोस्ट करू । मैं भावेश शाह मुम्बई से अपनी एक कहानी पेश कर रहा हु। ये कहानी कुछ १ साल पहले की है । ये कहानी मेरी और भावना भाभी की है जो बरोदा में रहती है। हमारी मुलाकात सबसे पहले व्हाट्सएप्प के १ ग्रुप में गलती से जुड़ गया था वहा हुई थी। भावना भाभी की उम्र कुछ 40 साल के आसपास है। और उनका फिगर ३२-३८-३२ की होगी और एकदम हॉट और सेक्सी भाभी थी। उनको २ बेटी है। वो अपने पति से अलग रहती थी। डाइवोर्स नही हुआ था पर बिज़नेस की वजह से वो अपने बेटी के साथ बरोदा में रहती थी। उनकी २ बेटी भी अपने माँ के जैसी हॉट और सेक्सी थी। अब अपनी कहाँनी पे आता हूं।

हमारी ग्रुप से जुड़ने के बाद कुछ दिनों बाद मेरी पर्सनल में बात होने लगी। और धीरे धीरे हमारी बीच प्यार भी हो गया ओर हमारी चैटिंग सेक्स की तरफ बढ़ने लगी। मैन उन्हें प्रुपोसे भी किया और उन्होंने हा भी बोल दिया। फिर हमारी सेक्स चैट फ़ोन चैट होने लगी। उन्होंने मुझे बरोदा मिलने के लिए बुलाया। कोई मौका नही मिल रहा था जाने का।
फिर हम दोनो सेक्स चैट और फ़ोन चैट से तड़प रहे थे। हम व्हाट्सएप्प पे ही अपनी अपनी नंगी फोटोज भेजने लगे। वो मुझे अपने बूब्स और चुत की तस्वीर भेजती और मै अपने लंड की तसवीर भेजता। फिर १ दिन ऐसा आया कि मैंने थान लिया कि इस हफ्ते तो बरोदा जाना ही है। तो मैंने फ्राइडे कि टिकट करवा दी बरोदा एक्सप्रेस की रात के ११.३० जो सुबह ६:०० बजे बरोदा पौचती है। मैन बरोदा उतरकर भाभी को फ़ोन किया और उनके बताए एड्रेस पर मै ऑटो करके पाउच गया। भावना भाभी मुझे लेने निचे आकर खड़ी थी। मै ऑटो से उतरकर उनसे गले लगा और होठो पर १ छोटी सी किश की। रास्ते में आसपास कोई नही था इसलिए। फिर हम भावना भाभी के घर गए। उन्होंने ग्रीन कलर की साड़ी पहनी थी। मैन ही बोला था कि साड़ी ही पहनकर मैरे सामने आना। कुकी मुझे कोई नही भाभी या आंटी सारी में ही अच्छी और सेक्सी लगती है। फिर उन्होंने मुझे सोफे पर बिठाया और अंदर पानी लेने चली गई। मैं उनकी मटकी गांड को देख रहा था। वो पानी लेकर आई और अपने दोनों बेटी के बेडरूम के दरवाजे को बाहर से बंद कर दिया ताकि वो बाहर न आये। पानी लेकर आयी और मैन उनके हाथ से पानी ले गिलास लिया और थोड़ा पिया। वो मेरी और भूकी नजर से देख रही थी। मैन उनका हाथ पकड़कर खिंचा और मेरी गोड में बिठाया। और वही गिलास से उनको भी पानी पिलाया ये कहकर की जूठा खाने और पीने से प्यार बढ़ता है। और उन्होंने पानी पिया।
फिर गिलास को साइड मैम रखकर हमने कुछ देर इधर उधर की बाते की पर मेरी नजर उनके बूब्स पर ही थी। तो मैंने वही सोफे पे बैठकर उनको लिप किश करना स्टार्ट किया । वो भी गर्म हो गई और उनके बूब्स प्रेस करने चालू किया। मुझसे रहा नही गया तो मैंने उनकी साड़ी बूब्स पे से हटाकर। उनके ब्लाउज के बटन खोंलना स्टार्ट कोय उन्होंने अंदर ब्रा भी नही पहनी थी। मैन पूछा तो उन्होंने बताया की आपके आनेवाले थे चुसनेवाले थे मुझे पता था इसलिए नही पहनी। थैंक्स बोलकर उनके बूब्स चुसने लगा । वो मेरा सिर अपने बूब्स पर दबाने लगी। और मै उनके बबले को चूसे जा रहा था। कभी बया कभी दाया। चूस चूस कर लाल कर दिए मैन। और लव बाईट भी दी बूब्स पे। फिर उनको खड़ करके मैन उनका पेटीकोट भी निकल दिया। उन्होंने तो पैंटी भी नही पहनी थी। और चुत एकदम क्लीन सेव थी। में चूत देखकर उनके फेस पे देखा वो मुस्कार कर मुझे इशारा किया चाटने के लिए। और मैन उनकी चुत चाट रहा था। वो आहिस्ते आहिस्ते मौन करने लगी और बोलने लगी कि और जोर से चाट भावेश चुत को बहुत मजा आ रहा है। आह आह उफ़्फ़ उफ़्फ़…….चूतिये चाट और जोर से मादरचोद चाट…. ये सब सुनकर मुझे भी जोश आ गया और में अंदर तक जीभ डालकर चाट रहा था। ऐसा सब करते करते मेरा भी लंड नाईट ड्रेस से बाहर आने को तड़प रहा था। तो उसने मेरे नाईट ड्रेस के अंदर हाथ डालकर मेरा लंड हिलाने लगी। और मेरी चड्डी उतार दी। आउट मेरी टीशर्ट भी निकाल दी। उर अब दोनों नंगे हो गए। १५ मिनट बाद उनकी चुत ने ढेर सारा पानी छोड़ा। फिर मैंने कहा अब मेरा लंड चुसो। तो मेरा ७ इंच का लंड फाटक से मुँह में लेकर चूसने लगी। और करीब २०मिनट बाद सारा पानी उनके मुँह मैं ही छोड़ दिया। फिर वापिस उन्होंने मेरा लंड पकड़कर हिलाकर बड़ा किया और चुदाई केलिए तड़प तड़प कर भीख मांगने लगीं । मैन भी देरी नही की और उनके चुत में अपना लंड डालकर पहले धीरे धीरे चोदने लगा। और करीब १० मिनट बाद भाभी बोली कि जोर से चोद मुझे मादरचोद…. बहनचोद….और मैं उनकी चुदाई जोर जोर से करने लगा….उनके मुंह से गाली सुनकर मुझे भी जोश आ गया और मेरे मुंह से भी गाली निकलने लगी कि ले रांड साली… मादरचोद…भड़वी….. रंडी….आज से तू मेरी रांड है छिनाल ….कही की। वो चिलाने लगी पर मेरा मुह उसके होठो पे था तो आवाज बाहर नही आ रही थी। और डर भी था कि कही उनकी बेटियां जाग न जाये। हमारी चुदाई तकरीबन 40 मिनिट चली। ओर इस बीज भाभी 4 बार जड़ चुकी थी। अब मेरी तैयारी थी तो मैन कहा कहा निकालू माल तो बोलै मुझे पीना है तेरा पानी। और मैन अपना लंड निकालकर उनके मुंह मे जड़ गया। इतना पानी तो एकसाथ मेरा पहले कभी नही निकला जितना आज निकाला मैन। फिर में उनके उप्पर ही ढेर हो गया। तब हमारी चुदाई को होते होते गड़ी की तरफ देखा तो 7 बज गए थे। फिर मैन उनको अपने हात से ब्लाउज पहना या और उसके हुक भी मैन ही लगाए। फिर पेटीकोट पहनाकर गाठ मार दी और भाभी ने अपने हाथ से सादी पहनकर वापिस रेडी हो गई। भाभी गई और चाय नास्ते का इंतेजैम किया।

भावना भाभी की चूत चुदाई से बहुत मजे किया। वो पूरा दिन मैंने उनके वहा ही रुका और आगे कीतने राउंड किये और कैसे किये। वो आप रेस्पिनसे कैसे देते हो उसपे बताऊंगा। फिर मैंने उनकी गांड भी मारी और उनकी बड़ी बेटी को भो कैसे चोदा वो भी बताऊंगा। आप सब के मेल का रिप्लाई का वेट करूँगा।

मेरी मेलआईडी – [email protected]

Comments